COMPUTER

सीपीयु क्या है यह कैसे काम करता है : What is CPU In Hindi, How Does It Work

CPU क्या है  what is CPU
Written by Anoop Bhatt

What is CPU in Hindi / CPU क्या है : Computer एक ऐंसी मशीन है जो सभी जगह पर उपयोग की जाती है, लेकिन क्या आपको पता है की जिस Computer की Demand इतनी अधिक है आखिर उसमे यह सब कैसे होता है की जब भी हम कोई जानकारी Input Device से Fill करते है तो हमें उसका Output मिल जाता है या Computer के द्वारा जो भी काम किये जाते है यह सभी कैसे होते है इन्हें कौन करता है.CPU क्या है  what is CPU

जब भी कोई User Input देता है तो उसका जवाब मिलने में केवल कुछ ही Second का समय लगता है लेकिन Input Device से Input देने और इसका Output Show होने के बिच जो भी Process होती है यह काम CPU का होता है और यह इतना Fast होता है की User को इसके बिच कुछ सोचने का मौका भी नहीं मिलता तो चलिए जानते है की CPU क्या है / what is CPU in Hindi यह कैसे काम करता है-

CPU क्या है / What Is CPU In Hindi

CPU जिसे सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट / Central processing unit भी कहा जाता है कंप्यूटर का वह भाग है जो सभी Input Device के द्वारा डाली गयी जानकारी को हमें Show करवाता है, और केवल Show ही नहीं Show करवाने के लिए यदि कोई Calculation की गयी है तो कैसे वह Calculation की गयी और इसी तरह से बहुत सी प्रक्रिया होती है जो एक मनुष्य को नहीं दिखाई देती है.

Computer ऐंसे बहुत से काम कर सकता है जो शायद एक मनुष्य को करने में बहुत सी परेशानी हो, लेकिन Computer के लिए यह आसान होता है. एक Computer को काम करने योग्य या कोई भी Calculation करना यह सब काम Computer के मस्तिष्क में होती है और जिसे Computer का मस्तिष्क कहा जाता है वह है CPU.

एक कंप्यूटर जो भी Calculation, या Computer के सभी device जो एक साथ काम करते है इसका सम्बन्ध भी CPU से ही होता है क्योंकि CPU इन सभी device को आपस में जोड़े रखता है. कंप्यूटर के मुख्य भाग की बात की जाये तो CPU ही वह भाग है जो Computer में मुख्य है. यह सभी क्रिया बिल्कुल वैसे है जैसे मस्तिष्क के द्वारा एक प्राणी अपनी सभी अंगों को Control करता है.

CPU कैसे काम करता है / How CPU Works

कोई भी CPU मुख्य तौर पर 3 प्रक्रिया करता है जो इस प्रकार से है जिनमे से सबसे पहले CPU इनपुट device के द्वारा ली गयी जानकारी को Check करता है दूसरी Process में CPU के द्वारा Input किये गए Data के साथ Processing की जाती है की डाटा में किस प्रकार की Calculation की जानी है और इसके बाद जो Result होता है उसे output device में दिखाया जाता है. कंप्यूटर जो भी काम करता है उसमे यह तीन Process जरूर होती है.

CPU का इतिहास / CPU history

शुरुआत में CPU का आकार बहुत बड़ा हुआ करता था जो एक कमरे के आकर तक का भी हो सकता था,  लेकिन पीढ़ी दर पीढ़ी कंप्यूटर के विकास के साथ साथ CPU के आकार में भी कमी आने लगी, और आज जिस CPU का हम सभी उपयोग करते है उसे बड़ी आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है.

पहले CPU में वैक्यूम ट्यूब लगी होती थी जो बहुत जल्दी गर्म हो जाती थी जिसे ठंडा करने के लिए Cooling Fan का उपयोग भी होता था और इस कारण एक CPU का Size भी बहुत बड़ा हो जाता था, इसके बाद CPU में ट्रांजिस्टर का उपयोग होने लगा और इसकी खासियत यह थी की यह जल्दी गर्म नहीं होते थे और CPU का आकर पहले से बहुत कम हुआ.

तकनीकी के आगे चलते चलते ट्रांजिस्टर के बदले Micro Processor का उपयोग होने लगा और इससे Computer का आकर बहुत ही कम हो गया. क्योंकि Micro Processor का आकर इतना छोटा था की इसे हाथ में आसानी से पकड़ा जा सकता था.

CPU के कार्य / CPU Functions

एक Computer जो भी कार्य करता है वह सभी CPU के द्वारा ही पुरे होते है. इसमें सभी device को आपस में जोड़ना और किस Command पर कौन से device का उपयोग करना है यह भी CPU का ही कार्य होता है.

CPU किसी भी information को सबसे पहले Receive करता है इसके बाद दी गयी Command के हिसाब से Process की जाती है और इसका जो रिजल्ट होता है उसे आउटपुट device पर Show करवाया जाता है.

सीपीयु के आन्तरिक भाग / internal parts of CPU

एक CPU में बहुत से भाग होते है और इन सभी से मिलकर एक CPU बना होता है CPU में यदि मुख्य भाग की बात की जाये तो इसमें ALU, CU, Memory को मुख्य भाग में रखा गया है. जबकि इसके आलावा भी CPU में कुछ और भाग भी होते है.

ALU (Arithmetic logic unit)

Computer में जितनी भी गणनाए या तर्क के कार्य होते है वह सभी ALU में ही पूरी होती है. इसके कार्य करने की गति इतनी जल्दी होती है की हमें उत्तर कुछ ही समय में मिल जाता है. एक कंप्यूटर में जो भी अंकगणितीय गणनाए जैसे जोड़, घटना, गुणा, भाग या किसी भी तर्क जैसे मिलान करना या किसी भी प्रकार की तुलना करना यह सभी काम ALU के द्वारा ही पुरे किये जाते है.

CU (Control Unit)

कंप्यूटर पर बहुत से device एक साथ जुड़े होते है जिनमे से कुछ Input Device और कुछ Output device होते है. यह सभी device को Control Unit के द्वारा नियंत्रित किया जाता है इसका मतलब है की जब की कोई Process होती है तो किस device के द्वारा यह Process पूरी होगी या की जाएगी यह सब Control Unit का काम होता है.

smps

smps switch mode power supply का काम CPU में लगे सभी device को Current उपलब्ध करवाना है. कंप्यूटर का उपयोग करने के लिए Current की जरूरत होती है, CPU के अन्दर Processor, Cooling Fan, DVD Player के आलावा भी बहुत से Component होते है और यह सभी सही काम तभी कर सकते है जब इनके उपयोग करने के लिए उपयुक्त Current इन्हें दी जाये.

यदि आसान से भाषा में कहा जाये तो किसी भी Component को जो Current का उपयोग करता हो को उसके उपयोग करने लायक Current देना smps का काम ही होता है जो किसी भी Component को केवल उतनी ही Current Provide करवाता है जितनी जरूरत है.

Mother Board

CPU में जितने भी Component को लगाया जाता है वह सभी Mother Board से जुड़े होते है, Mother Board Circuit Board होता है जिसमे बहुत से ट्रांजिस्टर के साथ साथ processor, Primary Memory, External Device slot, hard disk के आलावा भी बहुत से Circuit लगे होते है. यदि CPU को देखा जाये तो उसमे अलग अलग Side से बहुत से Slot या Port दिए जाते है लेकिन ये सभी Slot Mother Board पर ही जुड़े होते है.

Processor

Processor किसी भी CPU का एक Main भाग होता है, क्योंकि कंप्यूटर में जो भी Process होती है वह सभी Processor के बिना संभव नहीं है. Processor का उपयोग कंप्यूटर के किसी भी प्रकार के काम को करने के लिए किया जाता है चाहे वह एक छोटा का काम ही क्यों ना हो. Processor किसी भी operation को करने में गर्म हो जाता है.

Processor को ठंडा रखने के लिए कंप्यूटर में एक Cooling Fan भी लगाया जाता है जो Processor के गर्म होने से निकलने वाली गर्म हवा को बहार की और फेकता है और Processor को ठंडा रखने की कोशिश करता है. देखने में Processor एक छोटी Chip के जैसे होता है लेकिन इसका जो काम होता है वह सबसे ज्यादा होता है.

Primary Memory

जब भी कोई User Data Input करता है तो वह Data Primary Memory में रहता है और इसका Result या Output Show होने तक यह Data Primary Memory में ही Temporary Save रखता है, और इसके कारण ही Input device का Data हमें Show होता है. Primary Memory दो Type की होती है RAM और ROM.

Ram (Random Access Memory)

Random Access Memory Computer पर लगी एक Chip होती है जो computer की Primary Memory का ही भाग होती है, इसमें Data को कुछ समय तक ही Store करने की Power होती है, लेकिन इसमें Data को Save नहीं किया जा सकता है. Ram का Size External Storage Device से कम होता है लेकिन इसके काम करने की जो Speed होती है वह अधिक होती है.

जब भी User Computer को उपयोग करता है तो User बहुत बार कुछ ऐंसी Process भी करता है जिसमे Ram का उपयोग होता है जैसे कभी आपने सोचा है की जब भी किसी Text को copy किया जाता है तो वह Text कहा Store होता है, या बहुत बार जब हम किसी File को Save नहीं करते और Software को बंद कर देते है और जब दुबारा इसे Open करते है तो हमें पहले वाली File Show होती है जबकि इसे Save नहीं किया गया था और इसका कारण यह है की यह सब Data Ram में ही store होता है क्योंकि यह एक Temporary Memory होती है जिसमे Data कुछ समय के तक ही Save होता है.

Computer पर कोई भी Software जब Open किया जाता है तो वह Software Ram के द्वारा ही अपनी Process कर पाता है, और यदि एक साथ Computer में बहुत से Software का उपयोग किया जाता है तो इसका असर Ram पर भी पड़ता है जिससे Computer की Speed Slow होना जैसी समस्या आती है. एक Ram के Size के लिए GB का उपयोग किया जाता है. Ram के लिए 16mb, 32mb,64mb, 128mb, 512mb, 1Gb 2Gb, 4Gb साइज़ का उपयोग किया जाता है.

Rom (Read Only Memory)

Read Only Memory मतलब ROM जिसका उपयोग Primary Memory के रूप में ही होता है, ROM के बारे में आपको यह तो पता होगा की इसमें जो भी Data होता है उसे हम केवल Read कर सकते है, उस Data में Change या Delete नहीं कर सकते है यदि System को बंद भी करते है तो इसमें Store Data पर कोई भी असर नहीं पड़ता है वह Data System को Open करने पर वैसे का वैसा ही रहता है.

Computer में Program जो पहले से ही store किया जाता है वह सभी ROM में Store किये जाते है, क्योंकि इन program को यूजर से दूर रखा जाता है इसीलिए इन्हें Rom में रखा जाता है. यदि यूजर इस program में भी कुछ फेरबदल करता है तो इससे सिस्टम खराब होने जैसे problem हो सकती है.

Hard Disk

Computer के उपयोग में Hard Disk का काम Data को Store करके रखना होता है और इसको भी CPU से जोड़ा जाता है जो User को Data को Save करके रखता है और User इस Data में कुछ भी फेरबदल कर सकता है. कंप्यूटर पर जिस भी Operating System का उपयोग किया जाता है वह भी Hard Disk पर ही Store किया जाता है.

CPU बनाने वाली प्रमुख कंपनी

वैसे तो CPU बनाने वाली बहुत सी कंपनी है लेकिन आपको यहाँ पर कुछ ऐंसी Company की जानकारी दी जा रही है जो CPU के निर्माण के लिए जानी जाती है –

  • Intel
  • ARM
  • Sun micro system
  • VIA
  • NTC Module

दोस्तों उम्मीद है की सीपीयु क्या है यह कैसे काम करता है / What is CPU In Hindi, How Does It Work की जानकारी आपको मिल चुकी होगी, यदि आप इस Article से Related कुछ भी सवाल पूछना चाहते है तो आप Comment में अपना सवाल पूछ सकते है.

About the author

Anoop Bhatt

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम अनूप भट्ट है और मैं उत्तराखंड (India) से हूँ. इस website पर आपको Blogging, Mobile, Internet, Computer, Important Website, और Earn Money से Related Topics की पूरी जानकारी दी जाती है. अगर आपको इस Site के बारे में More Information चाहिए तो यहां Click करें.....

Leave a Comment