' Badrinath Temple एक धार्मिक स्थल और पर्यटन स्थल- Uttarakhand - Hindia help - Technology की जानकारी हिंदी में

Sunday, 11 February 2018

Badrinath Temple एक धार्मिक स्थल और पर्यटन स्थल- Uttarakhand

Badrinath Temple एक धार्मिक स्थल और पर्यटन स्थल : श्री Badrinath जी का Temple उत्तराखंड के चमोली जनपद में नर व नारायण पर्वतों के शिखरों के मध्य 10300 फिट की ऊंचाई पर अलकनंदा नदी के किनारे गर्म तप्तकुण्ड के पास स्थित है। स्कन्द पुराण के अनुसार आदिगुरु शंकराचार्य भगवान् विष्णु की प्रतिमा नरकुण्ड से निकाल कर इस स्थान में स्थापित की थी।

Badrinath धाम एक धार्मिक स्थल और पर्यटन स्थल -

यह उत्तराखंड के 4 धामों में सबसे महत्वपूर्ण है। यह मूर्ति काले शालिग्राम से निर्मित है। यह मूर्ति प्रत्येक वर्ष नवंबर माह में ज्योर्तिमठ ले जाई जाती है।
Badrinath Temple - बद्रीनाथ धाम एक धार्मिक स्थल और पर्यटन स्थल-


पुराणों में बद्रीनाथ के नाम -

स्कंदपुराण में -         भू-वैकुण्ड़ 
द्वापर में-                   विषाला तीर्थ 
कलयुग में -              बदरीकाश्रम   

प्रमुख स्थानों से बद्रीनाथ की दुरी -

श्रीनगर गढ़वाल से  बद्रीनाथ -193 KM
रुद्रप्रयाग से बद्रीनाथ -           136 KM
ऋषिकेश से बद्रीनाथ -           298 KM
पौड़ी से बद्रीनाथ -                  201 KM
कर्णप्रयाग  बद्रीनाथ               127 KM
 जोशीमठ से बद्रीनाथ -          31 KM
हरिद्वार से बद्रीनाथ -              322 KM
देवप्रयाग से  बद्रीनाथ -          227 KM
देहरादून से बद्रीनाथ -            341 KM
चोमली से बद्रीनाथ -               98 KM

BADRINATH ROOT ON MAP

Badrinath Temple एक धार्मिक स्थल और पर्यटन स्थल- Uttarakhand
BADRINATH MAP
यात्रा सीजन में यात्रा रुट में जगह जगह पे यात्रिओं के लिए सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है।
बद्रीनाथ धाम जाने के लिए यात्रिओं  को हवाई सेवा भी उपलब्ध कराइ जाती है। यात्री देहरादून  या चमोली से भी हवाई यात्रा कर बद्रीनाथ जा सकते हैं।

Badrinath Temple  में स्थित दर्शनिया  स्थल -

अलकनंदा तट पर स्थित तप्तकुण्ड
संतोपंथ पर्वत- यहाँ से अलकनंदा नदी निकलती है।
भीम पुल
अलकापुरी-धन  के  देवता कुबेर का  निवास स्थान
सरस्वती नदी
वेद व्यास गुफा
गणेश गुफा
शेषनाग के छाल  वाला शिलाखंड
सर्पों का जोड़ा
माणां  गाँव   - यह भारत चीन सीमा पर लगा भारत का अंतिम   गाँव  है। 

No comments:

Post a Comment